February 19, 2021

जाने महिलाओं में कमजोरी दूर करने के लिए क्या खाना चाहिए

आज के समय में ज्यादातर महिलाओं में कमजोरी की वजह से उन्हें अपने दैनिक काम काज को करने में काफी दिक्क़ते हो रही हैं। शरीर में थकान, बदन दर्द और पेट फूलने जैसी अन्य तरह की समस्याओं का सामना करना पड़ता हैं, तो इसका सबसे बड़ा कारण है की महिलाओं के शरीर में कमजोरी है जिसकी वजह से उन्हें ऐसा होता है। कमजोरी और थकान होने पर मौसमी रोग भी एक बड़ा रूप ले सकते हैं, हर दिन बीमार रहना दैनिक जीवन पर भी बुरा प्रभावित डालता है। इसलिए आपको पहले ये पता होना चाहिए की इसके कारण क्या होते हैं।

महिलाओं में कमजोरी के लक्षण
अधिक चिंता और अवसाद में रहना
हमेशा नींद पूरी न करना
शरीर कांपना, थकान, बुखार और दस्त लगना
शरीर में ऊर्जा की कमी, सुस्ती, चिड़चिड़ा मूड और याददाश्त का कम होना
ज्यादातर समय शरीर के अलग अलग हिस्सों में दर्द, रहना
भूख में कमी, हमेशा बीमार रहना, पेशाब में बदबू आना, कम पानी पीना
पेशाब का रंग में बदलाव
उठने, बैठने और ज्यादा समय तक खड़े होने में थकान महसूस होना
अनियमित मासिक धर्म या अत्यधिक रक्तस्राव में अनियमितता

महिलाओं में कमजोरी के कारण
मधुमेह (Diabetes)
फ़्लू (flu)
गलग्रंथि की बीमारी जैसे थॉयराइड ग्रंथि में समस्या होने के कारण
एनीमिया (anemia)
कोंजेस्टिव हार्ट फेलियर
अवसाद या चिंता (depression or anxiety)
नींद की कमी (lack of sleep)
विटामिन बी -12 की कमी (vitamin B-12 deficiency)
कुछ मांसपेशियों के रोग
महिलाओं के शरीर में पोटैशियम, सोडियम की कमी
यूरिन इंफेक्शन, स्ट्रोक और तंत्रिका तंत्र में समस्या होने के कारण महिलाओं को शारीरिक कमजोरी होती है।

महिलाओं में कमजोरी को कैसे दूर करें

नींद पूरी करें
ज्यादातर समय यदि आप रात में लैपटॉप, कंप्यूटर, मोबाइल का इस्तेमाल ज्यादा करते हैं तो ऐसा नहीं करना चाहिए क्योंकि यह आपके शरीर में कमजोरी और थकान का कारण होता है। आपको हमेशा रात में भरपूर नींद लेनी चाहिए। यदि रात में भरपूर नींद लेती हैं तो ये आपके शरीर में कमजोरी और थकान को दूर करता है, ऐसी स्थिति में महिलाओं को कमजोरी को दूर करने के लिए कम से कम 8 घंटे की नींद लेनी चाहिए। यदि किसी वजह से रात में आप पूरी नींद नहीं ले पाती हैं, तो आपको दिन में थोड़ा समय आराम जरूर करना चाहिए, क्योंकि नींद की कमी से न केवल शारीरिक कमजोरी हो सकती है, बल्कि मानसिक समस्याएं भी हो सकती हैं।

तुलसी का सेवन
विशेषज्ञ की माने तो तुलसी शरीर की थकान को दूर करने के लिए सबसे अच्छे उपायों में से एक है। तुलसी को एक औषधि मानते हैं, उनके अनुसार तुलसी के पत्तों और मंजरी का सेवन अत्यधिक थकान के कारण थकान से राहत दिलाता है। तुलसी का सेवन करने के वैसे तो अनेक फायदे हैं लेकिन यह थकान को भी बहुत जल्दी दूर भगाती है साथ ही शरीर में कमजोरी भी दूर करती है। आप तुलसी का सेवन सुबह खाली पेट भी कर सकते हैं या फिर इसको चाय में डाल कर भी पी सकते हैं।

नींबू पानी
नींबू के बारे में सब जानते हैं और लोग रोजाना इसका प्रोयग भी करते हैं। लोग नींबू का इस्तेमाल कर कई व्यंजन बनाते हैं। नींबू के अचार को काफी पसंद किया जाता है। वैसे तो आयुर्वेद में नींबू के बारे में बहुत सारी अच्छी बातें बताई गई हैं। उन्हीं में से एक है की यह महिलाओं के शरीर में थकान और कमजोरी को दूर करता है। यदि आप दिनभर थकान और कमजोर महसूस करते हैं, तो आपको नींबू पानी का सेवन करना चाहिए यह पूरे शरीर के लिए काफी अच्छा रहता है।

शहद और दूध
यदि आपके शरीर में अधिक समय तक थकान और कमजोरी रहती है तो आपको शहद को दूध में मिलाकर लेना चाहिए। यदि आपको अपने दिल, दिमाग और पेट पूरी तरह स्वस्थ रखना है तो यह आपके लिए बहुत फायदेमंद रहेगा। नींबू पानी में शहद मिलाकर पीने से शरीर को ऊर्जा और ठंडक मिलती है तो आप इसका सेवन भी कर सकते हैं। अगर शहद का रोजाना सेवन किया जाए तो यह शरीर को फिट रखने में बहुत मदद करता है, साथ ही यह शारीरिक शक्ति को बनाए रखकर थकान और कमजोरी को दूर करता है।

फोलिक एसिड
जब महिलाएं प्रेग्नेंट होती हैं तो उन्हें फोलिक एसिड की बहुत ज्यादा जरूरत होती है। शरीर में इसकी कमी के कारण न्यूरल ट्यूब को नुकसान पहुंचता है जिससे दिमाग पर बुरा असर पड़ता है। फोलिक एसिड की उच्च मात्रा हरी पत्तेदार सब्जियों, जूस, बीन्स और काजू में पाई जाती है। आप इसका सेवन जरूर करना चाहिए।

विटामिन डी (Vitamin D)
महिलाओं के शरीर में अक्सर विटामिन डी की कमी होती है जिसकी वजह से उनके शरीर का कैल्शियम बेकार चला जाता है। विटामिन डी ही महिला के शरीर में कैल्शियम एब्जॉर्ब करने में मदद करता है जिससे उन्हें ऊर्जा मिलती है। विडामिन डी के लिए आपको अपनी डाइट में टूना और सॉलमन जैसी मछलियां और संतरे के जूस को शामिल करना चाहिए।

Post Types, Standard Posts
About Xtar

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *